22 September 2016

Lyrics Of "Saiyaan Ve" From Latest Movie - Ek Kahani Julie Ki (2016).

Saiyaan Ve
Saiyaan Ve
A sufi qawwali sung by Shabab Sabri, Javed Ali, Shehzad Ali and Naman Shastri starring Amit Mehra and Rakhi Sawant.

Music: Dj Sheizwood
Lyrics: Taufiq Pallavi
Star Cast: Rakhi Sawant, Avadh Sharma, Amit Mehra, Sangeeta Tiwari, Jimmy Sharma, Adi Irani,  Rajesh Khera, Saniya Pannu, Sonu Baba, Aackruti Nagpal.




The video of this song is available on YouTube at the official channel Zee Music Company. This video is of 2 minutes 09 seconds duration.

Lyrics of "Saiyaan Ve"


bade din bite haaye pi ko naa dekha
are koi jaaye unko bataaye
kaate naahi katate mose ye din raina
birha ke palchhin birhan ko sataaye
te naina ne apne dil di baazi haariya
mai ta tere utte dil-o-jaan vaariya maula

tu dua me sada me saiya ve, aksh me naksh me saiya ve
zikra me fikra me saiya ve, ishq me mushq me saiya ve
meri tu jaan maula, meri muskaan maula
meri tu shaan maula, mera imaan maula
meri tu aan maula, meri pehchaan maula
mera armaan maula, tu do jahaan maula

allah allah hu allah hu allah allah hu
allah allah hu allah hu allah allah hu
tu hi gaffar hai maula, tu hi jabbar hai maula
tu hi razzak hai maula, tu hi sattar hai maula

allah hu allah hu allah hu allah hu
allah hu allah hu allah hu allah hu
allah hu allah hu allah hu allah hu
allah hu allah hu allah hu allah hu

jaane khuda khud hi apni khudai
bas lafze unse hai duniya banaayi
jaane khuda khud hi apni khudai
bas lafze unse hai duniya banaayi
zarre zarre me hai, katre katre me hai
rang tera mere saiya ve, saiya ve, saiya ve, saiya ve
aksh me naksh me saiya ve, ishq me mushq me saiya ve
tu dua me sada me saiya ve

tu hi hai awwal, tu hi to hai aakhir
tu hi hai hazir, tu hi to hai naazir
tu hi hai awwal, tu hi to hai aakhir
tu hi hai hazir, tu hi to hai naazir
lamhe lamhe me tha, lamhe lamhe me hai
tu hi hoga sada saiya ve, saiya ve, saiya ve, saiya ve
aksh me naksh me saiya ve, ishq me mushq me saiya ve
tu dua me sada me saiya ve


Lyrics in Hindi (Unicode) of "साइयां वे"


बड़े दिन बीते हाय पि को ना देखा
अरे कोई जाए उनको बताये
काटे नाही कटते मोसे ये दिन रैना
बिरहा ले पलछिन बिरहन को सताए
ते नैना ने अपने दिल दी बाज़ी हारियाँ
मैं ता तेरे उत्ते दिल-ओ-जान वारिया मौला

तू दुआ में सदा में साइयां वे, अक्ष में नक्श में साइयां वे
ज़िक्र में फ़िक्र में साइयां वे, इश्क में मुश्क में साइयां वे
मेरी तू जान मौला, मेरी मुस्कान मौला
मेरी तू शान मौला, मेरा इमान मौला
मेरी तू आन मौला, मेरी पहचान मौला
मेरा अरमान मौला, तू दो जहान मौला

अल्लाह अल्लाह हु अल्लाह हु अल्लाह अल्लाह हु
अल्लाह अल्लाह हु अल्लाह हु अल्लाह अल्लाह हु
तू ही गफ्फार हैं मौला, तू ही जब्बार हैं मौला
तू ही रज्जाक हैं मौला, तू ही सत्तार हैं मौला

अल्लाह हु अल्लाह हु अल्लाह हु अल्लाह हु
अल्लाह हु अल्लाह हु अल्लाह हु अल्लाह हु
अल्लाह हु अल्लाह हु अल्लाह हु अल्लाह हु
अल्लाह हु अल्लाह हु अल्लाह हु अल्लाह हु

जाने खुदा खुद ही अपनी खुदाई
बस लफ्जे उनसे हैं दुनिया बनायीं
जाने खुदा खुद ही अपनी खुदाई
बस लफ्जे उनसे हैं दुनिया बनायीं
ज़र्रे ज़र्रे में हैं, कतरे कतरे में हैं
रंग तेरा मेरे साइयां वे, साइयां वे, साइयां वे, साइयां वे
अक्ष में नक्श में साइयां वे, इश्क में मुश्क में साइयां वे
तू दुआ में सदा में साइयां वे

तू ही हैं अव्वल, तू ही तो हैं आखिर
तू ही हैं हाज़िर, तू ही तो हैं नाज़िर
तू ही हैं अव्वल, तू ही तो हैं आखिर
तू ही हैं हाज़िर, तू ही तो हैं नाज़िर
लम्हे लम्हे में था, लम्हे लम्हे में हैं
तू ही होगा सदा साइयां वे, साइयां वे, साइयां वे, साइयां वे
अक्ष में नक्श में साइयां वे, इश्क में मुश्क में साइयां वे
तू दुआ में सदा में साइयां वे

No comments:

Post a comment