25 June 2015

Lyrics Of "Titliyon Ki Phoor" From Movie - Angel (2011)

Titliyon Ki Phoor
Titliyon Ki Phoor
Lyrics Of Titliyon Ki Phoor From Movie - Angel (2011):  A Playful song in Voice of  Shweta Pandit Featuring Maddalsa Sharma.

Singer: Shweta Pandit
Music: Amjad Nadeem
Lyrics: Shabbir Ahmed
Star Cast: Nilesh Sahay, Maddalsa Sharma, Aruna Irani, Manoj Joshi






The Video of this song is available on Youtube.










Lyrics of "Titliyon Ki Phoor"



titliyo ki fur, badliyo ki fur, panchiyo ki fur
titliyo ki fur, badliyo ki fur, panchiyo ki fur
kaikaho ke fur, chechao ke fur, ungliyo ke fur
titliyo ke fur, badliyo ke fur, panchiyo ke fur
kaikaho ke fur, chechao ke fur, ungliyo ke fur fur
raato me udu jugnu banke, har subha khilu khushbu banke
khuli khuli in fizaao me, udu udu udu in dishaao me
meri meri baho me do jahaan fir kyu mera dam ghute
titliyo ke fur, badliyo ke fur, panchiyo ke fur
kaikaho ke fur, chechao ke fur, ungliyo ke fur fur

paani me machli ki tarah chalu
paani me machli ki tarah chalu
udti fizao ko chu lu, aankhon me putli banke main rahu
paon me payal banke me naachu, udd udd udd in dishaaome
meri meri baho me do jahan fir kyu mera dum ghute
titliyo ke fur, badliyo ke fur, panchiyo ke fur
kaikaho ke fur, chechao ke fur, ungliyo ke fur fur

neem ki dali pe jhulu
neem ki dali pe jhulu, haatho se chand ko chhulu
anchuye khwabo me chalti firu, aasmaan ki sim to udani bharu
khuli khuli in fizaao me, udu udu udu in dishaao me
meri meri baho me do jahaan fir kyu mera dam ghute


Lyrics in Hindi (Unicode) of "तितलियों की फुर्र"



तितलियों की फुर, बदलियों की फुर, पंछियों की फुर
तितलियों की फुर, बदलियों की फुर, पंछियों की फुर
कैकाहों के फुर, चेचओके फुर, उँगलियों के फुर
तितलियों की फुर, बदलियों की फुर, पंछियों की फुर
कैकाहों के फुर, चेचओके फुर, उँगलियों के फुर
रातों में उडूँ जुगनू बनके, हर सुबह खिलूँ खुशबू बन के
खुली खुली इन फिजाओं में, उडूँ उडूँ उडूँ इन दिशाओं में
मेरी मेरी बाहों में दो जहान फिर क्यूँ मेरा दम घुटे
तितलियों की फुर, बदलियों की फुर, पंछियों की फुर
कैकाहों के फुर, चेचओके फुर, उँगलियों के फुर

पानी में मछली की तरह चलूँ
पानी में मछली की तरह चलूँ
उडती फिजाओं को छू लो, आँखों में पुतली बन के मैं रहूँ
पाँव में पायल बन के मैं नाचूँ, उडूँ उडूँ उडूँ इन दिशाओं में
मेरी मेरी बाहों में दो जहान फिर क्यूँ मेरा दम घुटे
तितलियों की फुर, बदलियों की फुर, पंछियों की फुर
कैकाहों के फुर, चेचओके फुर, उँगलियों के फुर

नीम की डाली पे झूलूँ
नीम की डाली पे झूलूँ, हाथों से चाँद को छूलूं
अनछूए ख्वाबों में चलती फिरूँ, आसमान की सिम तो उडानी भरूँ
खुली खुली इन फिजाओं में, उडूँ उडूँ उडूँ इन दिशाओं में
मेरी मेरी बाहों में दो जहान फिर क्यूँ मेरा दम घुटे








No comments:

Post a comment