15 June 2015

Lyrics Of "Nadiya Ke Pani Jaisa" From Movie - Daal Mein Kuch Kaala Hai (2012)

Nadiya Ke Pani Jaisa
Nadiya Ke Pani Jaisa
Lyrics Of Nadiya Ke Pani Jaisa From Movie - Daal Mein Kuch Kaala Hai (2012):  A Playful song sung by Arun Daga Featuring Veena Malik and Aman Verma.

Singer: Arun Daga
Music: Aabfm
Lyrics: Vijay Akela
Star Cast: Jackie Shroff, Veena Malik, Vijay Raaz, Anand Balraj, Kishore Bhanushali, Raja Chaudhary, Ali Hasan, Irfan Malik, Shakti Kapoor



The Video of this song is available on Youtube.








Lyrics of "Nadiya Ke Pani Jaisa"



nadiya ke pani jaisa jeewan, sadiyo se behata jaye re
hey nadiya ke pani jaisa jeewan, sadiyo se behata jaye re
dekho to lage hai ye darpan, mann kaisa dhokha khaye re
ek pal me dard jage hai, ek pal me chain mile hai
jeewan ka yahi tamasha re
ek pal me dard jage hai, ek pal me chain mile hai
jeewan ka yahi tamasha re
nadiya ke pani jaisa jeewan, sadiyo se behata jaye re

insaan toh anjaan hai, kya hoga agale pal yahan
insaan toh anjaan hai, kya hoga agale pal yahan
kisko khabar kisko fikar, hum honge agle pal kaha
jeewan ko jisse jo hai kahna, jeewan wo kahta jaye re
dekho to lage hai ye darpan, mann kaisa dhokha khaye re
ek pal me dard jage hai, ek pal me chain mile hai
jeewan ka yahi tamasha re
ek pal me dard jage hai, ek pal me chain mile hai
jeewan ka yahi tamasha re
nadiya ke pani jaisa jeewan, sadiyo se behata jaye re

sau rang hai sau rup hai, ek pal ke mausam me yahan
sau rang hai sau rup hai, ek pal ke mausam me yahan
ye jindagi to hai khushi bachke, jaoge tum kaha
jeewan to bas uska hai jeewan, gam me jo hasta jaye re
dekho to lage hai ye darpan, mann kaisa dhokha khaye re
ek pal me dard jage hai, ek pal me chain mile hai
jeewan ka yahi tamasha re
ek pal me dard jage hai, ek pal me chain mile hai
jeewan ka yahi tamasha re
nadiya ke pani jaisa jeewan, sadiyo se behata jaye re
dekho to lage hai ye darpan, man kaisa dokha khaye re


Lyrics in Hindi (Unicode) of "नदिया के पानी जैसा"



नदिया के पानी जैसा जीवन, सदियों से बहता जाये रे
हे नदिया के पानी जैसे जीवन, सदियों से बहता जाये रे
देखो तो लागे ये दर्पण, मन कैसा धोखा खाए रे
एक पल में दर्द जागे है, एक पल में चैन मिले है
जीवन का यही तमाशा रे
एक पल में दर्द जागे है, एक पल में चैन मिले है
जीवन का यही तमाशा रे
नदिया के पानी जैसा जीवन, सदियों से बहता जाये रे

इन्सान तो अनजान है, क्या होगा अगले पल यहाँ
इन्सान तो अनजान है, क्या होगा अगले पल यहाँ
किसको खबर किसको फिकर, हम होंगे अगले पल कहाँ
जीवन को जिससे जो है कहना, जीवन वो कहता जाए रे
देखो तो लगे दर्पण, मन कैसा धोखा खाए रे
एक पल में दर्द जागे है, एक पल में चैन मिले है
जीवन का यही तमाशा रे
एक पल में दर्द जागे है, एक पल में चैन मिले है
जीवन का यही तमाशा रे
नदिया के पानी जैसा जीवन, सदियों से बहता जाये रे

सौ रंग है सौ रूप है, एक पल के मौसम में यहाँ
सौ रंग है सौ रूप है, एक पल के मौसम में यहाँ
ये ज़िन्दगी तो है ख़ुशी, बचके जाओगे तुम कहाँ
जीवन तो बस उसका है जीवन, गम में जो हस्ता जाये रे
देखो तो लगे दर्पण, मन कैसा धोखा खाए रे
एक पल में दर्द जागे है, एक पल में चैन मिले है
जीवन का यही तमाशा रे
एक पल में दर्द जागे है, एक पल में चैन मिले है
जीवन का यही तमाशा रे
नदिया के पानी जैसा जीवन, सदियों से बहता जाये रे
देखो तो लगे दर्पण, मन कैसा धोखा खाए रे

No comments:

Post a comment